पहचान कौन? वो फिल्म जिसके भारत और पाकिस्‍तान में बने 22 रीमेक, सभी रहे बॉक्स ऑफिस पर हिट

0
1


ऐप पर पढ़ें

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ने इस फिल्म के दो रीमेक बनाए हैं। एक रीमेक में दिलीप कुमार साहब थे। वहीं दूसरी रीमेक में शाहरुख खान ने मुख्य भूमिका निभाई थी। हिंदी भाषा के अलावा इस फिल्म के रीमेक बंगाली, तेलुगू, तमिल सहित कई अन्य भाषाओं में बन चुके हैं। यदि इस फिल्म के रीमेक की गिनती की जाए तो भारत और पाकिस्तान में मिलाकर तकरीबन 22 रीमेक मिलेंगे। शायद ही सिनेमा के इतिहास में ऐसी कोई फिल्म होगी जिसके इतने रीमेक बने हों। पहचाना? नहीं! आइए हम आपको इसका नाम बताते हैं।

अच्छा तो ये है फिल्म का नाम

इस फिल्म का नाम है ‘देवदास’। दरअसल, ‘देवदास’ शरत चंद्र चट्टोपाध्याय द्वारा लिखी गई एक बंगाली उपन्यास है। इस नॉवेल पर सबसे पहली बार फिल्म साल 1928 में बनाई गई थी। लेकिन, ये एक साइलेंट मूवी थी। इसके बाद 1935 में बंगाली भाषा में इसका रीमेक बनाया गया। एक साल बाद बंगाली रीमेक बनाने वाले पीसी बरुआ ने इसका हिंदुस्तानी भाषा (हिंदी-उर्दू) में रीमेक बनाया। इसमें केएल सहगल, जमुना बरुआ और राजकुमारी लीड रोल में थे। इसके बाद 1937 में पीसी बरुआ ने असमिया लैंग्वेज में यही फिल्म बनाई। 

सबसे पहले किस भाषा में बनी थी फिल्म

फिल्म हर भाषा में हिट साबित हो रही थी। ऐसे में साल 1953 में डायरेक्टर Vedantam Raghavayya ने तेलुगू और तमिल में ‘देवदास’ बनाई। इसके दो साल बाद 1955 में दिलीप कुमार के साथ हिंदी भाषा में ‘देवदास’ बनाई गई। फिर भारतीय बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचाने वाली इस फिल्म का 1965 में पाकिस्तान में रीमेक बना। दिलीप कुमार वाली ‘देवदास’ के बाद जिस तरह हिंदी भाषा में शाहरुख खान के साथ एक और ‘देवदास’  बनाई गई ठीक उसी तरह पाकिस्तान में भी इसका दूसरा रीमेक बना।

अमिताभ बच्चन भी बने थे देवदास

कहा जाता है कि साल 1978 में आई प्रकाश मेहरा की ‘मुकद्दर का सिकंदर’ की कहानी भी देवदास से ही ली गई थी। फिल्म में अमिताभ बच्चन, राखी और रेखा थे। इसके बाद 1979 में बंगाली भाषा, 1980 में तेलुगू, 1981 में तमिल, 1982 में बंगाली (बांग्लादेशी फिल्म), 1989 में मलयालम और 2002 में बंगाली में फिर से फिल्म का रीमेक बनाया गया।

.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here